Aazadi

For a change, first time I have written post in Hindi language on my website. Non-Hindi speakers if you use translator , it will not translate accurately. Apologies !

आजादी का इंतजार करती रही,
पर वक़्त तोः नीकल चूका था|
कहते हैं,
हर एक का वक़्त आता हैं |
पर कड़वा सच्च तोः ये हैं,
गुजरा हुआ वक़्त,
फिर कभी लौटके नहीं आता हैं|
वक़्त किसी के लिये
ना कभी रुकता हैं
और ना लौट आता हैं
बस हालात बदलते हैं|
और कभी
ना नसीब, ना कोई अपना
साथ देता हैं |
और कुछ इसी तरह
वक़्त के साथ
हम अपने आपको खो बैठते हैं |
आजादी मेरे लिए नही थीं,
वैसेही जैसे प्यार हर
किसी के लिए नहीं होता |

Leave a Reply. I am happy to hear your thoughts on this post.

Up ↑

%d bloggers like this: